प्रकृति की गोद में बसा खूबसूरत शहर Chail Shimla एक  खूबसूरत  Hill Station  हिल स्टेशन है l मन को शांत करने वाला मनमोहक शहर Chail बेहद ही खूबसूरत है l झील पर बने रेस्टॉरेंट पर खाना-खाना l दुनिआ के सबसे ऊँचे क्रिकेट ग्राउंड पर घूमना l वन्य जीवों और पक्षियों की आवाजें सुनना और उन्हें टहलते हुए देखना l प्रकति की गोद में बैठकर समय बिताना यह सभी अनुभव आपको Chail में देखने को मिलेगा l इस पोस्ट के माध्यम से आपको Best Places to Visit In Chail Shimla के बारे में जानने का मौका मिलेगा l

खूबसूरत हिल स्टेशन चैल शिमला -Chail Hill Station

महाराजा पटियाला की गर्मियों की राजधानी रहा Chail Hill Staion  पर्यटकों के मन को मोह लेता है l अगर आप Shimla  घूमने की सोच रहे हैं तो एक दिन  Chail  घूमने के लिए जरूर निकालें हमारा वादा है की यह शहर आपको बेहद पसंद आएगा l

Shimla City के बराबर हाइट में स्थित Chail City अपनी ख़ूबसूरती के लिए प्रसिद्ध है l 2250  मीटर की ऊंचाई पर स्थित Chail Hill Station प्रयटकों को काफी लुभाता है l Chail शहर क्रिकेट प्रेमियों और पोलो प्रेमियों का पसंदीदा स्थल  है l विश्व का सबसे World Highest Cricket Ground Chail में स्थित है l जिसे पोलो खेलने के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है l Hikers और Adventures का आना जाना इस जगह पर लगा रहता हैl किसी समय में Chail  Maharaja Patiala Bhupinder Singh की राजधानी हुआ करती थी l

कैसे पहुंचें चैल शिमला – How To Reach Chail Shimla

Chandigarh से Chail City की दुरी मात्र 105 किलोमीटर है l अगर आप हिमाचल के अलावा किसी भी अन्य राज्य से Chail जाना चाहते हैं तो चैल जाने के लिए एकमात्र रूट है Chandigarh Shimla National Highway l Chail जाने के लिए आपको  Shimla Route ही लेना होगा इसके अलावा और कोई रास्ता नहीं है l 

शिमला से चैल – Shimla To Chail

Shimla से Chail शहर की दूरी 45 किलोमीटर है l अगर आप Shimla से Chail शहर जाना चाहते हैं तो शिमला से चैल जाने के लिए आपको Kufri Route लेना होगा होगा l 

Shimla To Chail Distance 45 Kilometer
Shimla to Chail Estimated Time By Bus 2 Hours
Shimla To Chail Estimated Time By Car 1.5 Hours
Shimla to Chail Bus Fare Rs. 90 Aprox.
Shimla to Chail Taxi Fare Rs. 1200 Aprox.

सोलन से चैल – Solan To Chail 

Solan शहर से भी Chail City की दूरी 40 किलोमीटर ही है l अगर आप Solan से Chail जाना चाहते हैं तो आपको Shimla National Highway  लेना होगा l Solan से Kandaghat की 15 किलोमीटर की दूरी पर है l Kandaghat  पहुँचने के पश्चात् आपको Chail Route लेना होगा l Kandaghat से Chail की दूरी 24 किलोमीटर है l

Solan To Chail Distance 40 Kilometer
Solan To Chail Estimated Time By Bus 2 Hours
Solan To Chail Estimated Time By Car 1:10 Hours
Solan To Chail Bus Fare Rs. 80 Aprox.
Solan To Chail Taxi Fare Rs. 1000 Aprox.

दिल्ली से चैल  -Delhi To Chail 

Delhi से Chail जाने के लिए आपको Chandigarh जाना होगा l  Chandigarh से Shimla National Highway लेना होगा l Kandaghat पहुँचने पर Chail Route  लेना होगा l

Delhi To Chail Distance 335 Kilometer
Delhi To Chandigarh Distance 244 Kilometer
Delhi To Chail Estimated Time By Bus 6 Hours
Delhi To Chail Estimated Time By Car 6 Hours

दिल्ली से चैल तक हवाई मार्ग से कैसे पहुँचें – Delhi To Chail By Air 

अगर आप Delhi से Chail फ्लाइट के माध्यम से जाना चाहते हैं तो आप Shimla के लिए भी Direct Flight ले सकते हैं l Shimla से आप Kufri मार्ग द्वारा Chail पहुँच सकते हैं l अगर आपको Delhi से डायरेक्ट फ्लाइट Shimla के लिए नहीं मिलती है तो आप Chandigarh के लिए फ्लाइट ले सकते हैं l

Delhi To Shimla By Air Estimated Time 1 Hour
Shimla To Chail By Car Estimated Time 1.5 Hours

चंडीगढ़ से चैल तक कैसे पहुंचे – Chandigarh To Chail

Chandigarh से Chail जाने के लिए आप Taxi या Bus ले सकते हैं l Chandigarh से आपको डायरेक्ट बस मिल जाती है l अगर डायरेक्ट Bus न मिले तो आप Shimla शहर जाने वाली कोई भी बस ले सकते हैं l परन्तु बस टिकट सिर्फ Kandaghat तक का ही लें l Kandaghat से आपको फिर से बस बदलनी होगी l Kandaghat से Chail शहर की दुरी मात्र 25 किलोमीटर है l Kandaghat से Chail शहर के लिए आप बस या टैक्सी ले सकते हैं l

Chandigarh To Chail Distance 105 Kilometer
Chandigarh To Chail Estimated Time By Bus 5 Hours
Chandigarh To Chail Estimated Time By Car 4 Hours
Chandigarh To Chail Fare By BusRs. 180/- Aprox.
Chandigarh To Chail Fare By CarRs. 2500/- Aprox.

चैल शहर का इतिहास – Chail History

ब्रिटिश राज्य काल में Shimla भारत की ग्रीष्मकालीन राजधानी थी । 1891 में एक ब्रिटिश पार्टी में पटियाला के Maharaja Bhupender Singh जी ने Lord Kitchener की पत्नी से छेड़खानी कर दी । उसके पश्चात् Lord Kitchener ने शिमला आने पर महाराजा भूपेंदर सिंह पर प्रतिबन्ध लगा दिया । अंग्रेजों के इस नियम के लिए Maharaja Bhupender Singh  ने कसम खाई की वह अपने लिए  Summer Hill Station बनाएंगे । Shimla के बराबर हाइट और जलवायु वाला क्षेत्र एकमात्र Chail ही था । इसीलिए महाराजा भूपेंदर सिंह ने Chail शहर का निर्माण करवाया महाराजा भूपेंदर सिंह जी ने अपनी आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए चैल शहर में Chail Palace का निर्माण करवाया ।

भारत आज़ाद होने के बाद महाराजा पटियाला द्वारा बनाई गई अधिकांश इमारतों को मिलिट्री स्कूल और भारत सरकार को दान दे दिया ।

महाराजा भूपिंदर सिंह का इतिहास – History Of Maharaja Bhupinder Singh

भारत देश में कई राजा महाराजा हुए  l जो अपनी वीरता-शौर्यता के लिए प्रसिद्ध हुए l परन्तु पटियाला रियासत के महाराजा भूपिंदर सिंह जो अपनी Luxury Life, रंगरलियों के लिए प्रसिद्ध हुए l Maharaja Bhupinder Singh  जो की Maharaja Rajinder Singh के सुपुत्र थे l Maharaja Bhupinder Singh का जन्म 12 अक्टूबर 1891 को Moti Bagh Palace  में हुआ Aitchison College में पढाई की Maharaja Patiala जब 9 बर्ष के थे l तब उनके पिता महाराजा राजिंदर सिंह जी का देहांत हो गया l उसके बाद उन्हें पटियाला रियासत की राजगद्दी पर बैठना पड़ा l

Maharaja Bhupinder Singh  पहले भारतीय राजा थे l जिनके पास अपना विमान था इस विमान को उन्होंने 1910 में (United Kingdom) यूनाइटेड किंगडम से ख़रीदा था l अपने विमान को उड़ने के लिए उन्होंने पटियाला में हवाई पट्टी बनाई थी l  महाराजा भूपिंदर सिंह Indian Cricket Team के कप्तान थे 1910 में उन्होंने इंग्लैंड का दौरा किया 1915 और 1937 के बीच 27 क्रिकेट मैचों में प्रथम श्रेणी में खेला l 1917 में  State Bank Of Patiala  की स्थापना महाराजा पटियाला ने ही की थी l

Maharaja Bhupinder Singh   अपने रंगीन मिजाज के लिए काफी मशहूर थे l इनके पास 20 Rolls Royces कार थी l इतिहासकारों के मुताबिक 10 अधिकृत रानियों के समेत 365 रानियां थी l वह अपनी रानियों की सुख सुविधा का पूरा ख्याल रखते थे l 365 रानियों के लिए उन्होंने कई महल बनायें l अक्सर उनके स्विमिंग पूल में और महल में पार्टिया चली रहती थी l इन पार्टियों में वह खुलेआम इश्क लड़ते नज़र आ जाते थे l कहा जाता है की उन्होंने बाहरदारी बाग़ के समीप एक महल बनवाया था l उस महल में खास लोगों को न्योता मिलता था l निवस्त्र लोगों को ही इस महल में आने के अनुमति मिलती थी l

महाराजा पटियाला के 365 रानियों के 83 बच्चे हुए l  जिनमे से 53 ही जीवित रह पाए l महाराजा पटियाला के बड़े पुत्र Maharaja Yadvinder Singh जी राजा बने l जो की पंजाब के मुख्यमंत्री Capt. Amrinder Singh  के पिता हैं l

 महाराजा पटियाला    के मरनोपश्चात उनकी रंगरलियां और रानियों के किस्से तो इतिहास में ही दफ़न हो के रह गए l परन्तु उनके द्वारा बनाये गए महल और ऐतिहासिक इमारतें आज भी जिन्दा है l महाराजा भी महाराजा भूपिंदर का बसाया हुआ है l  State Bank Of Patiala अब  स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया    में सम्मलित हो चूका है l

चैल में घूमने वाले स्थान – Chail Mein Ghumne Ki Jagah
चैल पैलेस – Chail Palace

Chail Palace   का निर्माण Maharaja Bhupender Singh जी ने 1891 में किया था ।  चैल पैलेस Chail Shimla का मुख्य पर्यटक स्थल है । यह पैलेस 75 एकड़ भूमि पर फैला हुआ है । इस Palace के इर्द गिर्द हरियाली और देवदार के पेड़ इसकी शोभा बढ़ाते है । यह Palace महाराजा भूपेंदर सिंह जी   का ग्रीष्मकालीन महल था । गर्मियों में Maharaja Patiala  यहां पर घूमने और शिकार खेलने आते थे ।

अब यह Palace HPTDC (Himachal Pradesh Tourism Development Corporation ) का हिस्सा है । जो अब एक Heritage Luxury Hotel में कन्वर्ट हो चूका है ।अगर आप शाही अनुभव लेना चाहते हैं तो इस महल में रुक सकते हैं ।

Chail Palace Room TeriffRs. 3500 Aprox.
साधुपुल झील – Sadhupul Lake

Sadhupul Jheel चैल    शिमला    में घूमने के लिए बेहतरीन स्थल है । इस झील का मुख्य आकर्षण यहां का Water Restaurent है । अपने पैरों को ठन्डे झील के पानी में डुबो कर आप नूडल्स, मैग्गी, ब्रेड ऑमलेट, फ़ास्ट फ़ूड का लुत्फ़ ले सकते हैं । भोजन के साथ-साथ हरे भरे जीवन का आप लुत्फ़ उठा सकते हैं ।

पहले पानी के अंदर ही चेयर और टेबल लगे हुए थे l परन्तु पानी से हुए कुछ हादसों के बाद आप चेयर और टेबल आपको पेड़ो पर और ग्रीनरी पर देखने को मिलेंगे l

चैल वन्यजीव अभयारण्य – Chail Wildlife Sanctuary

अगर आपको वन्य जीवों से प्यार है तो आप Chail  wildlife  sanctuary का लुत्फ़ उठा सकते हैं । 7152  फ़ीट की ऊंचाई पर स्थित  इस क्षेत्र में रहने वाले जंगली जीवों जैसे कक्कड़, सूअर, तेंदुआ, सांभर, हिमालयन ब्लैक बियर, यूरोपीय लाल हिरण, फ्लाइंग गिलहरी जैसे जानवरों को देख सकते हैं ।

Chail Wildlife Sanctuary Entry Fees For AdultRs. 20
Chail Wildlife Sanctuary Entry Fees For ChildrenRs. 10
काली का टिब्बा – Kali Ka Tibba

Kali Ka Tibba  या काली मंदिर  पहाड़ी की छोटी पर स्थित है । इस मंदिर के आसपास पेड़ो की ख़ूबसूरती को आप निहार सकते हैं साथ ही इस मंदिर के बाहर आप घुड़सवारी का लुत्फ़ उठा सकते हैं ।

चैल क्रिकेट ग्राउंड – Chail Cricket Ground

महाराजा भूपेंदर सिंह जी ने Chail को अपनी ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाया था । महाराजा पटियाला क्रिकेट प्रेमी थे जब भी समय मिलता था l वह क्रिकेट खेलते थे । यह क्रिकेट ग्राउंड 2444 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है । इस  क्रिकेट ग्राउंड को World’s Highest Cricket Ground   का गौरव प्राप्त है । इस क्रिकेट ग्राउंड को 1893 में स्थापित किया गया । पहाड़ी को काट कर इसे समतल बनाया गया ।

इस Cricket Ground  के आसपास हरे भरे जंगल हैं l इस क्रिकेट ग्राउंड को क्रिकेट के अलावा Polo Game  के लिए इस्तेमाल किया जाता है l फुटबॉल, बालीबाल, बास्केट बाल और अन्य खेलें भी इस ग्राउंड की शोभा बढ़ाते हैं ।

अब यह Cricket Ground  भारतीय सेना के अधीन है ।इस ग्राउंड का इस्तेमाल अब मिलिट्री स्कूल के बच्चों को खेलने के लिए किया जाता है । इस ग्राउंड के अंदर आम आदमी के जाने पर प्रतिबन्ध है । परन्तु बाहर से इस ग्राउंड की ख़ूबसूरती को निहारा जा सकता है ।

सिद्ध बाबा का मंदिर – Sidh Baba Ka Mandir